Rahat Indori famous ghazal in Hindi-मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ ज़मीं हूँ मैं